कुमार विश्वास का कटाक्ष- शिवगामी देवी, बाहुबली को मारने के लिए हर बार कट्टप्पा बदलती रहती है

कुमार विश्वास का कटाक्ष- शिवगामी देवी, बाहुबली को मारने के लिए हर बार कट्टप्पा बदलती रहती है

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी में राज्यसभा सीटों पर घमासान थम नहीं रहा है. पार्टी नेता और दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने बीते दिन कुमार विश्वास पर पार्टी तोड़ने के आरोप लगाए थे. जिसके बाद शुक्रवार को कुमार विश्वास ने काफी रचनात्मक तरीके से गोपाल राय पर वार किया. उन्होंने कहा कि गोपाल राय, पांच राज्यों के प्रभारी, विधायक, मंत्री, दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष, प्रवक्ता ऐसे करीब नौ पदों पर तैनात हैं. 7 महीने बाद वे नींद से जागे हैं. अभी गुप्ताओं की तरफ से जो योगदान मिला है, उसका आनंद लेना चाहिए.

gopal-story_647_061416021919

राय सात महीने की अपनी कुंभकरणी नींद से जागे हैं-

विश्वास ने अपने खिलाफ साजिश करने वालों पर कटाक्ष करते हुए उनकी फिल्म ‘बाहुबली’ की अहम किरदार शिवगामी देवी से की. उन्होंने पत्रकारों को बताया, ‘राय सात महीने की अपनी कुंभकरणी नींद से जागे हैं. पार्टी ने भी उनके आरोपों से पल्ला झाड़ लिया है. दरअसल, इस ‘माहिष्मति’ की शिवगामी देवी कोई और है.’ कुमार ने कहा कि पिछली बार बाबरपुर में रैलियां कर मैंने गोपाल राय को जितवाया था, अब वे सुशील गुप्ता से रैलियां करवाएं. सांसद बनें, प्रधानमंत्री बनें, मैं तो चाहता हूं कि सयुंक्त राष्ट्र के अध्यक्ष बन जाएं और किम जोंग उन से शांति की बात करें.

उन्होंने कहा कि राय अब ‘आप’ के राज्यसभा उम्मीदवार सुशील गुप्ता को अपने चुनाव क्षेत्र में ले जा सकते हैं. विश्वास ने राय का मजाक उड़ाते हुए कहा कि गुप्ता की मदद से तो वह प्रधानमंत्री भी बन सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘असल में किम जोंग-उन हर किसी को मुश्किल में डाल रहा है. वह (राय) संयुक्त राष्ट्र के महासचिव भी बन सकते हैं. उन्होंने अब कई चीजें पा ली हैं और उन्हें उनका आनंद लेना चाहिए.’

विश्वास और कपिल मिश्रा केजरीवाल की सरकार गिराने का षड्यंत्र रच रहे थे-

vishwas-1

पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय का दावा है कि कुमार विश्वास और आप से निलंबित कपिल मिश्रा केजरीवाल की सरकार गिराने का षड्यंत्र रच रहे थे और उनकी ‘नकारात्मक सोच’ आप के लिए नुक़सानदेह साबित हो सकती थी. एक नीजी न्यूज़ चैनल से खास बातचीत में गोपाल राय ने कहा है, ”कुमार विश्वास ने दिल्ली में तख़्तापलट की कोशिश की थी. अब तक पार्टी चुप थी क्योंकि उन्होंने ऐसा ना होने का वादा किया था, लेकिन अब राज्यसभा टिकट न मिलने का बाद माहौल ऐसा बनाया जा रहा है जैसे पार्टी ही गुनहगार हो.” उन्होंने आगे कहा, ” पार्टी ने कुमार को कोई सज़ा नहीं दी बल्कि केवल राज्यसभा का टिकट नहीं दिया, क्योंकि उनकी नकारात्मक सोच पार्टी के लिए नुक़सानदेह साबित हो सकती थी.”

आप में घमासान की वजह-

आप ने हा ही में दिल्ली की तीन राज्यसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा की थी और पार्टी के नेता और कवि कुमार विश्वास का पत्ता काट दिया था. पहली बार राज्यसभा में एंट्री करने जा रही आप ने संजय सिंह, एनडी गुप्ता और सुशील गुप्ता को अपना उम्मीदवार बनाया था, जिसे लेकर राजनीतिक क्षेत्र में काफी आलोचना हुई थी और टिकट में मोटी रकम के लेन-देन के आरोप लगाए गए थे.

kumar-vishwas-story_647_042817011100

जिसके बाद राज्यसभा के लिए नहीं चुने जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कुमार विश्वास ने AAP के संयोजक केजरीवाल पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था, ”सब अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं. आप अपनी लड़ रहे हैं. मैं अपनी लड़ रहा हूं.”

उन्होंने कहा, ”मैं बहुत शुभकामाएं देता हूं, जिनको रामलीला मैदान के लिए चुना है. मैं अरविंद और पूरी पार्टी जिन लोगों ने तय किया है उनको बधाई देता हूं. नवनीत बना कर भेजा है देश के सर्वोच्च सदन में जहां अटल और इंदिरा की आवाज गूंजी है.” कुमार ने कहा कि नैतिक रूप से एक कवि, मित्र और आंदोलनकारी की जीत हुई है.

News18tv

Related Posts
Leave a reply